Thursday, November 2, 2017

CBSE Class 10 Hindi(B) - टोपी शुक्ला - प्रश्नोत्तर (#cbseNotes)

टोपी शुक्ला - प्रश्नोत्तर

CBSE Class 10 Hindi(B) - टोपी शुक्ला - प्रश्नोत्तर (#cbseNotes)
Buy Book from Amazon

प्रश्न 1: इफ़्फ़न टोपी शुक्ला की कहानी का महत्वपूर्ण हिस्सा किस तरह से है?

उत्तर: टोपी शुक्ला कहानी का ताना-बाना दो दोस्तों की दोस्ती एवं उनकी पारिवारिक स्थितियों को ध्यान में रखकर बुना गया है। इफ़्फ़न टोपी का अभिन्न मित्रा है। उसके बिना यह कहानी अध्ूरी है। कहानी में स्थान-स्थान पर उसका तथा उसके परिवार का ज़िक्र आता है। उसके बिना इसकी रचना नहीं हो सकती थी। भिन्न-भिन्न धर्मों के होने के बावजूद दोनों में घनिष्ठ मित्राता थी।




प्रश्न 2: इफ़्फ़न की दादी अपने पीहर क्यों जाना चाहती थीं?

उत्तर: इफ़्फ़न की दादी मौलवी की बेटी न होकर ज़मीदार की बेटी थी। वह वहाँ दूध, घी, दही खाती थी। लखनऊ आकर वह इसके लिए तरस गई क्योंकि यहाँ मौलविन बन कर रहना पड़ता था। इसलिए उन्हें पीहर जाना अच्छा लगता था।


प्रश्न 3: इफ्र.पफन की दादी की आत्मा ससुराल की किन पावंदियों से बेचैन रहती थी? वे अपने पीहर क्यों जाना चाहती थीं?

उत्तर: इफ्र.पफन की दादी एक शमींदार परिवार से ताल्लुक रखती थीं। उनका ब्याह लखनऊ में हुआ तो उन्हें लखनऊ आना पड़ा। अपने पीहर में वे दूध्-दही बहुत खाती थीं, परंतु ससुराल में वे इन सब चीशों के लिए तरस गईं। ऊपर से उनके पति मौलवी थे। उन्हें भी मौलविन बनना पड़ा, जिस कारण वे बैचैन रहती थीं।

जब वे मरने लगीं तो उनसे पूछा गया कि उन्हें कहाँ दफ़नाया  जाए, तो वे बोलीं, तुम लोग मुझे मेरे पीहर भेज दो।


प्रश्न 4: इफ़्फ़न की दादी अपने बेटे की शादी में गाने-बजाने की इच्छा पूरी क्यों नहीं कर पाई?

उत्तर: दादी का विवाह मौलवी परिवार में हुआ था जहाँ गाना बजाना पसंद नहीं किया जाता था। इसलिए बेचारी दिल मसोस कर रह गईं।


प्रश्न 5: ‘अम्मी’ शब्द पर टोपी वेफ घरवालों की क्या प्रतिक्रिया हुई?

उत्तर: टोपी शुक्ला ने जब खाने की मेज़ पर ‘अम्मी’ शब्द का उच्चारण किया तब सभी घरवालों के होश उड़ गए। वे टकटकी लगाए टोपी की तरफ़  देखने लगे। टोपी की माँ खाना परोस रही थीं। उन्होंने गुस्से से पूछा ‘यह शब्द तुमने कहाँ से सीखा?’ दादी सुभद्रा देवी तो उसी वक्त खाने की मेज़ से उठ गईं और माँ रामदुलारी ने टोपी को तब बहुत मारा।


प्रश्न 6: दस अक्तूबर सन् पैंतालीस का दिन टोपी के जीवन में क्या महत्त्व रखता है?

उत्तर: दस अक्तूबर सन् पैंतालिस को  इफ़्फ़न के पिता का तबादला हो गया और वे चले गए। अपने प्रिय दोस्त के चले जाने से वह बहुत दुखी हुआ। उसने कसम खाई कि वह कोई ऐसा दोस्त नहीं बनाएगा जिसकी बदली हो जाती है। एक तो  इफ़्फ़न की दादी जिससे वह बहुत प्यार करता था वह नहीं रहीं फिर इफ़्फ़न चला गया तो यह दिन उसके लिए महत्वपूर्ण दिन बन गया।


प्रश्न 7: टोपी ने इफ़्फ़न से दादी बदलने की बात क्यों कही?

उत्तर: टोपी ने इफ़्फ़न से दादी बदलने की बात इसलिए कही क्यो  िं क उसे इफ़्फ़न की दादी बहुत अच्छी लगती थीं। टोपी जब भी इफ़्फ़न वेफ घर जाता था तो वह उसकी दादी के पास बैठने की कोशिश करता था। टोपी को अपनी दादी अच्छी नहीं लगती थीं क्योंकि उसकी स्वयं की दादी बहुत अनुशासनप्रिय थीं। वह टोपी को कहानियाँ भी नहीं सुनाया करती थीं। टोपी को उनकी भाषा भी समझ में नहीं आती थी। इसीलिए उसने दादी बदलने की बात कहीे।


प्रश्न 7: इस पाठ के आधर पर टोपी की पारिवारिक स्थिति के विषय में बताइए।

उत्तर: टोपी शुक्ला का पूरा नाम बलभद्र नारायण शुक्ला था। उनके पिता का नाम भृगु नारायण शुक्ला था। वे डाॅक्टर थे। घर में उसकी माँ, दादी और दो भाई थे। घर में किसी चीज़  की कमी नहीं थी। उनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ थी। दादी बड़ी धर्मिक प्रवृत्ति की थीं। माँ भी दादी के आगे आजीवन बहू बनी रहीं।

No comments:

Post a Comment